top of page
ei1WQ9V34771.jpg
  • Ali Haider

अब शमशान में 10 लाख का शराब बरामदगी से मुजफ्फरपुर में मची सनसनी पुलिस सदमें में


मुजफ्फरपुर में शराब माफिया पुलिस को चकमा देने के लिए नित्य नए-नए आइडिया अपनाते हैं। लेकिन, इस बार जो आइडिया सामने आया है। वह सुनने में काफी अजीब लगता है। लोग जिस जगह जाने से कतराते हैं, उसे शराब माफिया ने सुरक्षित ठिकाना बना लिया। हम बात कर रहे हैं शमशान घाट की। जिले के मनियारी थाना क्षेत्र के पकाही में शमशान घाट से पुलिस ने 10 लाख से अधिक की शराब जब्त की है। कुल शराब 72 कार्टन (640) लीटर है। इसे धंधेबाज़ों ने लाश वाले कपड़े से ढंककर रखा था। जहां से पुलिस ने इसे जब्त कर लिया।

DSP वेस्ट अभिषेक आनन्द ने बताया कि गुप्त सूचना मिली थी पकाही में शराब की खेप मंगवाई गयी है। इसी आधार पर मनियारी थानेदार अजय पासवान के नेतृत्व में टीम गठित कर छापेमारी के निर्देश दिया गया। टीम ने शमशान घाट पहुंचकर छानबीन की तो वहां से भारी मात्रा में शराब मिली। पुलिस भी दंग रह गयी कि ऐसी जगह भी शराब को ठिकाना लगाया जा सकता है।

स्थानीय धंधेबाज़ों की संलिप्तता

पुलिस छानबीन में पता लगा कि इसमे स्थानीय धंधेबाज़ों की संलिप्तता है। कहा तो ये भी जा रहा है कि इसमे से कुछ शराब के कार्टन को सप्लाई कर दिया गया तब पुलिस ने रेड की। थानेदार ने बताया कि प्रारंभिक जांच में नकली शराब होना पता लगा है। क्योंकि इसकी पैकिंग और बनावट ऐसी है कि देखकर नकली प्रतीत हो रहा है। वैसे जांच अभी चल रही है।

जिले में पहली बार मिली शमशान में शराब :

शराबबंदी के बाद यह जिले में पहला मामला है, जब शमशान घाट में शराब की खेप मिली है। इससे पूर्व स्कूल, दूध के केन, एम्बुलेंस, पानी समेत अन्य जगहों से शराब बरामद हो चुकी है। लेकिन, ये पहला मामला है। एक पुलिसकर्मी ने तो बताया कि ये सूबे में पहला मामला हो सकता है। क्योंकि आजतक शमशान घाट से कभी शराब नहीं पकड़ी गई है।

दो महिला तस्कर समेत चार गिरफ्तार

इधर, मुशहरी थानेदार शशिभूषण कुमार ने दो महिला तस्कर समेत चार को गिरफ्तार किया है। इसमे दो महिला और दो पुरुष हैं। इनके पास से चुलाई शराब बरामद हुई है। थानेदार ने बताया कि ये महिलाएं घरेलू काम करने के बाद शराब की सप्लाई करती हैं। शुक्रवार को भी शराब सप्लाई करने जा रही थी। तभी पुलिस ने इन्हें रंगे हाथ दबोच लिया। नाम पता का सत्यापन कर जेल भेजने की कवायद की जा रही है।

0 comments

Opmerkingen


bottom of page