top of page
ei1WQ9V34771.jpg
  • Ali Haider

बिहार के नौ जिलों से होकर गुजरेगा राज्य का दूसरा एक्सप्रेस-वे, डीपीआर बनाने की प्रक्रिया शुरू


रक्सौल से हल्दिया तक रज्य का दूसरा एक्सप्रेस-वे बनेगा. छह से आठ लेन वाले इस दूसरे एकसप्रेस-वे का निर्माण अगले साल से शुरू होगा. यह करीब 695 किमी लंबा होगा, जिसके निर्माण पर 54 हजार करोड़ रुपये खर्च होंगे. इसके निर्माण को पूरा करने की समयसीमा वर्ष 2024-25 है. फिलहाल इस एक्सप्रेस-वे की डीपीआर की प्रक्रिया शुरू होने वाली है. बतादें कि पटना से कोलकाता तक राज्य का पहला एक्सप्रेस-वे बनेगा.

बीच में चढ़ने की नहीं होगी अनुमति


सूत्रों के अनुसार यह एक्सप्रेस-वे पूरी तरह ग्रीनफील्ड होगा और इसमें बीच में नहीं चढ़ा जा सकेगा. यह राज्य के करीब नौ जिलों से होकर गुजरेगी, इनमें पश्चिम चंपारण, पूर्वी चंपारण, मुजफ्फरपुर, सारण, पटना, बिहारशरीफ, शेखपुरा, जमुई और बांका शामिल हैं. इसके बाद यह एक्सप्रेस-वे झारखंड में प्रवेश कर सरैयाहाट, नोनीहाट व दुमका से पश्चिम बंगाल के पानागढ़ से हल्दिया पोर्ट चला जायेगा.


पटना रिंग रोड से भी होगा जुड़ाव


इस एक्सप्रेस-वे का एलाइनमेंट के रक्सौल से दिघवारा आकर प्रस्तावित पटना रिंग रोड में जुड़कर कच्ची दरगाह-बिदुपुर से होकर पटना-कोलकाता एक्सप्रेस-वे में जुड़ेंगे. फिर बांका होते हुए सरैयाहाट, नोनीहाट व दुमका से पश्चिम बंगाल के पानागढ़ से हल्दिया पोर्ट तक होगा.

0 comments

Comments


bottom of page