top of page
ei1WQ9V34771.jpg
  • Ali Haider

बिहार: जहरीली शराब से 24 लोगों की मौत मुजफ्फरपुर में कई लोगों की आंखों की रोशनी गई


बिहार के गोपालगंज और पश्चिमी चंपारण के जिलों में पिछले दो दिनों में ज़हरीली शराब पीने से मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ रही है. गुरुवार को चंपारण के गांव बेतिया में 8 लोगों की मौत हो गई. जबकि गोपालगंज में 16 लोगों की मौत हो गई.पिछले दस दिनों में उत्तरी बिहार में शराब पीने से मौत की यह तीसरी घटना है. इस मौके पर बिहार के मंत्री जनक राम ने गोपालगंज का दौरा किया. उन्होंने कहा, “मैंने उन लोगों के घरों का दौरा किया है जिनकी नकली शराब पीने से मौत हुई थी.

पुलिस के मुताबिक मारे गए कुछ लोगों का उनके परिवार वालों ने अंतिम संस्कार कर दिया है. गुरुवार को इलाज के दौरान चार लोगों की मौत हो गई और दो लोगों ने अस्पताल ले जाते समय ही दम तोड़ दिया.गांववालों का कहना है कि तेलहुआ गांव में मरने वाले सभी लोगों ने शराब पी थी. शराब पीने के बाद, 8 लोगों की तबियत बिगड़ गई और उ्हें पास ह के अस्पताल ले जाया गया, जहां उनकी मौत हो गई. वहीं कुछ गांववालों को आस-पास के दूसरे अस्पतालों में भी भर्ती कराया गया.

इस साल जनवरी से 31 अक्टूबर तक, नकली शराब पीने से नवादा, पश्चिमी चंपारण, मुज़फ्परपुर, सीवान और रोहतास जिलों के करीब 70 लोगों की मौत हो गई है और कई लोगों ने अपनी आंखों की रौशनी खो दी है.

जहरीली शराब ने छीन ली आंखों की रोशनी

रिपोर्ट के अनुसार अभी भी कई ऐसे लोग अस्पताल में और दूसरी जगहों पर चोरी छिपे इलाज करवा रहे हैं. जिन्होंने जहरीली शराब का सेवन किया है.

मुजफ्फरपुर के रुपौली गांव में 28 अक्टूबर से जहरीली शराब पीकर आठ लोगों की मौत हो चुकी है. अधिकारियों के अनुसार 4 लोगों का अलग अलग अस्पतालों में इलाज चल रहा है. सरकारी रिपोर्ट कहता है कि इस साल जनवरी से 31 अक्टूबर तक जहरीली शराब पीने से 70 लोगों की मौत हो चुकी है. कई लोग जहरीली शराब पीकर अपने आंखों की रोशनी गंवा चुके हैं. स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अनुसार नवादा, पश्चिमी चंपारण, मुजफ्फरपुर, सिवान और रोहतास जिलों में कई लोगों के आंखों के रोशनी जा चुकी है।

0 comments

Comments


bottom of page