top of page
ei1WQ9V34771.jpg
  • Ali Haider

मुजफ्फरपुर शहर के 135 मकानों और दुकानों पर मंडरा रहा खतरा, जानिए- क्या है वजह


मुजफ्फरपुर महानगर में जाम की समस्या के समाधान के लिए अतिक्रमण हटाने की कार्ययोजना पर प्रशासन ने शख्ती से काम शुरू कर दिया है। अतिक्रमण मुक्ति के लिए शहर की तीन प्रमुख सड़कों को पहले चिह्नित किया गया है, जहां अभी तक 135 घर-दुकान के अंश को तोड़ने के लिए चिह्नित किया गया है।


नोटिस जारी


करबला रोड, मोतीझील से कल्याणी रोड व कल्याणी से हरिसभा रोड में मापी कर अतिक्रमण चिह्नित करने के साथ अतिक्रमणकारियों के खिलाफ नोटिस जारी करने की कार्रवाई शुरू की गई है। इसके तहत करबला रोड की मापी में फिलहाल 18 दुकान व मकानों से सड़क की जमीन के अतिक्रमण का मामला मापी में सामने आया है। करबला रोड में चार मीटर से लेकर 10 मीटर तक सड़क का चौड़ीकरण होना है। इसके तहत निगम के अमीन ने जब मापी की तो दुकान व मकानों से अतिक्रमण चिह्नित किया गया है। फिलहाल ऐसे 18 भवनों को चिह्नित किया गया है, जिनकी छज्जी या सीढ़ी आदि सड़क की जमीन में बनायी गई है। इसे तोड़ने से पहले अब इन मकान व दुकान के मालिकों को नोटिस जारी किया जाएगा।

वहीं कल्याणी से हरिसभा रोड में अबतक 14 दुकानें चिह्नित की गई हैं जो सबसे अधिक जमीन पर अतिक्रमण किये हुए हैं। मापी के बाद दुकान व मकान के पास चिह्न लगा दिए गए हैं। मकान मालिक को खुद मापी कराकर संतुष्ट होने का समय दिया गया है। इसके साथ साथ निगम की टीम ने नोटिस भी जारी करना शुरू कर दी है।

अतिक्रमण के खिलाफ अभियान के तहत मोतीझील से हरिसभा तक 103 दुकानों को नोटिस भी जारी की जा चुकी है। नगर निगम व जिला प्रशासन मिलकर अब 21 नवम्बर के बाद अतिक्रमण को तोड़कर हटाने का काम शुरू करेगा।


डीएम आवास से सरैयागंज तक कब्जा हटाने के लिए माइकिंग


नगर निगम ने नो वेंडिंग जोन का पालन कराने के लिए शनिवार से माइकिंग शुरू करा दिया। शनिवार को डीएम आवास से लेकर सरैयागंज तक माइकिंग करायी। दुकानदारों से सड़क की जमीन से दुकान हटाने की अपील की गई है। इसके बाद अभियान चलाकर दुकानों को तोड़ा जाएगा। माइकिंग के बाद कई दुकानदारों ने अपना बांस बल्ला हटाना शुरू कर दिया है और कई दुकानें बंद भी होने लगी हैं। निगम यहां दो दिन माइकिंग के बाद तीसरे दिन से कार्रवाई शुरू करेगा

0 comments
bottom of page