ei1WQ9V34771.jpg
  • Sweet City Muzaffarpur

मैट्रिक परीक्षा में फर्जी रजिस्ट्रेशन कराने की साजिश नाकाम,बोर्ड ने मुजफ्फरपुर के 36 हाईस्कूलों....


मैट्रिक परीक्षा में फर्जी रजिस्ट्रेशन कराने की साजिश नाकाम,बोर्ड ने मुजफ्फरपुर के 36 हाईस्कूलों को किया शोकॉज,ऐसे रची गयी साजिश


बिहार भर में 4354 हाईस्कूलों द्वारा मैट्रिक के रजिस्ट्रेशन में बड़ी गड़बड़ी की गयी है। रजिस्ट्रेशन में छात्रों के माता- पिता की जगह कहीं एक्स-वाई-जेड तो कहीं टीईएसटी और डीएफएफ जैसे उटपटांग शब्द लिखकर भर दिए गए हैं। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की जांच में यह मामला सामने आया है। इसके बाद परीक्षा समिति ने सभी हाईस्कूलों के प्राचार्यों को शोकॉज किया है। मुजफ्फरपुर में ऐसे 36 स्कूल हैं।

यह धोखाधड़ी है


बिहार बोर्ड का कहना है कि यह लापरवाही के साथ धोखधड़ी का भी विषय है। स्कूलों ने जानबूझ कर फर्जी उम्मीदवार बनाने के लिए ऐसा किया है। बोर्ड ने जिला शिक्षा अधिकारी को भी इन प्राचार्यों पर सख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया है।


अज्ञात बच्चों को स्कूलों ने बनाया मैट्रिक परीक्षार्थी


बिहार बोर्ड का कहना है कि यह मामला सामने आने के बाद लग रहा है कि स्कूलों ने अज्ञात लोगों को मैट्रिक परीक्षार्थी बनाने के लिए यह चाल चली है। क्योंकि, किसी भी विद्यार्थी के माता-पिता का नाम इस तरह से नहीं हो सकता है। बोर्ड ने कहा है कि स्कूलों ने कुछ व्यक्तियों को निजी लाभ देने के लिए ऐसा किया है। बोर्ड ने कहा है कि डाटा की समीक्षा में यह गड़बड़ी पकड़ी गयी नहीं तो परीक्षक और परीक्षार्थियों को भारी दिक्कत का सामाना करना पड़ सकता था।छात्रों को अब चिंता सता रही है कि उनका रजिस्ट्रेशन कैसे सुधारा जाएगा।मुजफ्फरपुर जिले में 36 हाईस्कूलों ने करीब दो हजार छात्रों के साथ ऐसी गड़बड़ी की है। इसकी रिपोर्ट बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने जिला शिक्षा विभाग को भेज दी है। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने स्कूल कोड के साथ यह सूची जिला शिक्षा विभाग को जारी की है। सूची में स्कूल कोड के साथ गड़बड़ हुए छात्रों के रजिस्ट्रेशन नंबर भी दिए गए हैं। इससे पहले भी 48 हाईस्कूलों ने मैट्रिक की डमी एडमिट कार्ड छात्रों को नहीं दिया। इस पर भी बिहार बोर्ड ने स्कूलों के प्राचार्यों को शोकाज किया है।

0 comments