ei1WQ9V34771.jpg
  • Sweet City Muzaffarpur

सराहनीय कदम: मुजफ्फरपुर के तुर्की से कच्ची-पक्की सड़क निर्माण में गड़बड़ी,दो अभियंताओं पर गिरी गाज




मुजफ्फरपुर तुर्की से कच्ची-पक्की तक सड़क एवं नाला निर्माण कार्य में गड़बड़ी पाए जाने के बाद दो अभियंताओं पर पथ निर्माण विभाग (रोड कंस्ट्रक्शन डिपार्टमेंट) ने कार्रवाई की है। विभाग ने गड़बड़ी के लिए दोषी पथ निर्माण प्रमंडल-एक (आरसीडी-वन) के तत्कालीन सहायक एवं वर्तमान कार्यपालक अभियंता अंजनी कुमार के दो वेतन वृद्धि पर रोक लगाई है। वहीं तत्कालीन कार्यपालक अभियंता राजेंद्र प्रसाद सिंह को निंदन की सजा दी है। विभाग के उप सचिव द्वारा जारी अधिसूचना के अनुसार तुर्की से कच्ची-पक्की सड़क एवं नाला निर्माण की जांच उडऩदस्ता दल ने की। इसमें पाया गया था कि सड़क में अलकतरा की औसत मात्रा टालरेंस लिमिट से कम पाई गई। टालरेंस लिमिट 3.782 फीसद की तुलना में उक्त सड़क में अलकतरा की मात्रा 3.0167 थी। इसके अलावा एवरेज कांप्रेसिव स्ट्रेंथ आफ इक्यूवेलेंट क्यूब (ईसीएसई) भी कम पाया गया। यह 176.58 किलो प्रति वर्ग सीएम पाया गया। जबकि यह कम से कम 198.69 किलो प्रति वर्ग सीएम होना चाहिए था। खराब गुणवत्ता की सड़क निर्माण को लेकर उक्त दोनों अभियंताओं से स्पष्टीकरण मांगा गया। जवाब में उडऩदस्ता दल के सैंपल कलेक्शन से लेकर कई बिंदुओं पर सवाल उठाए गए। इसके अलावा कई तर्क भी दिए गए, मगर विभाग ने स्पषटीकरण को अस्वीकार कर दिया। इसमें कहा गया कि अभियंताओं द्वारा गठित आरोपों के संबंध में कोई प्रमाणिक तथ्य प्रस्तुत नहीं कर सके। इसे देखते हुए अंजनी कुमार की दो वेतन वृद्धि पर रोक की कार्रवाई की। तत्कालीन कार्यपालक अभियंता राजेंद्र प्रसाद सिंह को वित्तीय वर्ष 2014-15 के लिए निंदन की सजा दी गई।

0 comments