ei1WQ9V34771.jpg

मुजफ्फरपुर मे चौथी के छात्र पर लगा 4 साल की बच्ची से रेप का आरोप निकला फर्जी


मुजफ्फरपुर में अजीबो-गरीब मामला सामने आया है। एक चौथी क्‍लास में पढ़ने वाले बच्‍चे पर दुष्‍कर्म का आरोप लगा तो पुल‍िस स्‍कूल पहुंच बच्‍चे को अपने कब्‍जे में ले ल‍िया, जबक‍ि बच्‍ची को मेड‍िकल जांच के ल‍िए भेज द‍िया गया था, लेक‍िन जांच र‍िपोर्ट आने के बाद मामले का पर्दाफाश हो गया। साहेबगंज थाना क्षेत्र के एक गांव में चार साल की बच्‍ची से दुष्कर्म का आरोप



मारपीट में बदल गया है। हालांकि दुष्कर्म की बात सामने आने के कारण पुलिस द्वारा बच्‍ची का सदर अस्पताल में मेडिकल जांच कराया गया। थानाध्यक्ष राजेश रंजन ने कहा कि मेडिकल जांच में दुष्कर्म की पुष्टि नहीं हुई है। कहा कि मामले में दोनों परिवार की ओर से एक दूसरे के विरुद्ध मारपीट का आरोप लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज कराई गई है।


जनप्रतिनिधि के इशारे पर झूठी कहानी बनाई

पुलिस की जांच में पता चला कि दोनों परिवार के बीच करीब 11 वर्षों से भूमि विवाद का मामला चल रहा है। इसको लेकर फंसाने नीयत से दुष्कर्म का आरोप लगाया गया था। पुलिस की जांच में पता चला कि इलाके के एक जनप्रतिनिधि के इशारे पर झूठी कहानी रची गई थी। प्रारंभिक जांच में मामला गलत सामने आने के बाद पुलिस के सवालों के जवाब देने में जब ब'ची के स्वजन



फंसने लगे तो बयान से पलट गए थे। बाद में मारपीट को लेकर आवेदन दिया। बालक के स्वजन ने भी मारपीट का आवेदन दिया है। आरोप की गंभीरता को देख इलाके में किसी तरह की अप्रिय घटना नहीं हो इसके लिए पुलिस ने सुरक्षा के ख्याल से बालक व ब'ची को मंगलवार की रात भर थाने पर रखा। इस दौरान दोनों की मां भी उनकी देखरेख में थाने पर थे। बुधवार को मेडिकल जांच में सब स्पष्ट हुआ तो दोनों को घर भेजा गया। दोनों परिवार को पुलिस की ओर से शांति बनाए रखने को कहा गया है। साथ ही झूठी कहानी



बनाकर पुलिस को परेशान करने के आरोप में जनप्रतिनिधि पर भी पुलिस कार्रवाई करने की बात कही है।

विदित हो कि मंगलवार को जब बच्‍ची से दुष्कर्म की शिकायत पुलिस के पास पहुंची तो 10 वर्ष के लड़के को पुलिस ने स्कूल से पढ़ाई के दौरान अभिरक्षा में में ले लिया था। सरैया एसडीपीओ राजेश शर्मा ने बताया कि पीडि़त तथा आरोपित परिवार के बीच भूमि विवाद का मामला चल रहा है। मारपीट की दोनों ओर से प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। मेडिकल जांच में दुष्कर्म की बात नहीं आई है।

0 comments