ei1WQ9V34771.jpg

मुजफ्फरपुर के छह हजार लोगों को मिलेगा रोजगार, होने जा रही यह खास व्यवस्था


मुजफ्फरपुर, बेला औद्योगिक क्षेत्र में बंद पड़ीं 26 फैक्ट्रियों को फिर से चालू करने की पहल की गई है। ये बेकरी, नूडल्स, नमकीन, प्लास्टिक ब्रश व अन्य छोटे उत्पाद से जुड़ी इकाइयां हैं। एनओसी नवीकरण, लोन विवाद आदि कारणों से ये बीते चार-पांच वर्षों से ये बंद पड़ी हैं। इन्हें खोलने के लिए बियाडा की ओर से पहल की गई है।बेला में फिलहाल 250 फैक्ट्रियां चल रही हैं। बंद फैक्ट्रियों के चालू होने से रोजगार को भी बढ़ावा मिलेगा। वर्तमान में यहां 5600 श्रमिक काम

अपने दुकान व्यापार के विज्ञापनों के लिये संपर्क करें

कर रहे हैं। फैक्ट्रियों के खुलने से यह आंकड़ा सात हजार तक पहुंच सकता है। उत्तर बिहार उद्यमी संघ के मंत्री विक्रम कुमार विक्की ने बताया कि बियाडा की ओर से नियम में रियायत दिए जाने से बंद फैक्ट्रियां फिर से चालू हो रही हैं। उन्होंने कहा कि जलजमाव की समस्या से निजात के बाद उद्योग का नेटवर्क और मजबूत होगा।

प्रविधान में दी गई रियायत

जानकारी के अनुसार 26 में से सात फैक्ट्रियों का मामला हाईकोर्ट में लंबित था। बियाडा की ओर से जमीन का आवंटन रद किए जाने पर सात उद्यमियों ने हाईकोर्ट का रुख किया था। हाईकोर्ट की ओर से मामला निपटाए जाने के बाद सात फैक्ट्रियों में फिर से

उत्पाद शुरू होने का रास्ता साफ हो गया है। पांच फैक्ट्रियां उद्योग विभाग से मिली आर्थिक मदद के तहत खुली थीं , लेकिन प्रविधानों के उल्लंघन के कारण इनको बंद कर दिया गया था। शेष फैक्ट्रियों से जुड़े मामले बियाडा के कार्यालय में लंबित थे । बंद फैक्ट्रियों को फिर से चालू करने के लिए बियाडा की ओर से प्रविधान में रियायत दी गई है । बियाडा के कार्यकारी निदेशक रवि रंजन प्रसाद ने बताया कि बेला औद्योगिक क्षेत्र में लंबे समय से बंद 26 फैक्ट्रियां फिर से चालू होंगी। इसके लिए मुख्यालय से मंजूरी मिल गई है। नए निवेशक भी आएंगे ।

0 comments