ei1WQ9V34771.jpg

रेल रोकर प्रदर्शन कर रहे छात्रों को आरपीएफ ने दौड़ा-दौड़ा कर पीटा, कई बेरोजगार घायल


पटना: आरआरबी एनटीपीसी स्नातक स्तरीय सीबीटी 1 का रिजल्ट जारी होने के बाद से अभ्यर्थी लगातार विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। रिजल्ट में गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए सोमवार को दोपहर बाद अचानक सैकड़ों अभ्यर्थी राजेंद्र नगर टर्मिनल पहुंच गए

और राजधानी एक्सप्रेस के सामने ट्रैक पर पटरी रख दिया। कई छात्र ट्रैक पर ही लेट गए। एक मालगाड़ी को रोक दिया। इससे दीनदयाल उपाध्याय और मोकामा से आने वाली ट्रेनें जहां-तहां खड़ी हो गई। दानापुर रेल मंडल के डीआरएम प्रभात कुमार ने बताया कि ट्रेनों के रद्द होने से रेल राजस्व का भारी नुकसान हुआ है।

यात्री प्रभावित हुए हैं। राजेन्द्र नगर यार्ड में ट्रेनों में आग लगाने की कोशिश हुई है। प्रभात कुमार ने आगे बताया कि ट्रेनों का दरवाजा बंद रहने के बाद राजेंद्रनगर कुर्ला की एक बोगी की खिड़की तोड़कर आग लगाई गई है। हालांकि अब स्थिति नियंत्रण में हैं। आरपीएफ के एक दर्जन जवान आंशिक रूप से चोटिल हुए हैं।

रात 9.50 में मालगाड़ी चलाकर ट्रेनों का परिचालन शुरू किया गया। आरा में रात दस बजे तक छात्रों का ट्रैक पर आंदोलन जारी रहने की वजह से यात्री ट्रेनें अभी शुरू नहीं की जा सकी हैं।

वहीं सोमवार की शाम को राजेंद्र नगर टर्मिनल पर लाठीचार्ज के बाद अफरा-तफरी का माहौल कायम हो गया। कई छात्र बुरी तरह से हुए घायल हो गए। आंसू गैस के गोले दागे जाने के बाद हंगामा मच गया। कई छात्रों के पैर और हाथ में गंभीर चोट लगी है। प्रदर्शने कर रहे छात्रों का आरोप है कि आरपीएफ और पुलिस के जवानों ने छात्रों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा। बता दें कि अभ्यर्थियों के आक्रोश की वजह से उत्तर बिहार जाने वाली कई ट्रेनों को पाटलिपुत्र जंक्शन से होकर निकाला गया। छात्रों को समझाने के लिए आरपीएफ के जवानों और राजेंद्र नगर पुलिस ने काफी कोशिश की, पर वे नहीं माने। इस दौरान पुलिस और छात्र के बीच कई बार तीखी नोकझोंक भी हुई। छात्र अपनी मांगों को पूरा करने की जिद पर अड़ गए। सभी आरआरबी के चेयरमैन को बुलाने की मांग कर रहे थे।

0 comments