top of page
ei1WQ9V34771.jpg
  • Ali Haider

खुशखबरी; अब देश पहनेगा बिहार में बना बनियान रूपा टीटी व अन्य कंपनी लगा रही फैक्ट्री


पटना. बिहार में टेक्सटाइल सेक्टर में निवेश की संभावनाएं बनी हैं. दरअसल इन्वेस्टर्स मीट सह बिहार टेक्सटाइल एंड लेदर पॉलिसी में के लोकार्पण समारोह में दो मुख्य कंपनियों रूपा और टीटी कंपनियों के शीर्ष

प्रबंध निदेशक मौजूद रहे. साथ ही बिहार में अपने निवेश के संदर्भ में खुल कर राय व्यक्त की

बिहार की विकास दर संतोषजनक रूपा कंपनी के प्रेसिडेंट विकास अग्रवाल ने बताया कि नीतीश कुमार की सरकार आने के बाद बिहार की विकास दर संतोषजनक बनी हुई है. बिहार की छवि में सकारात्मक सुधार हुआ है. लॉ एंड ऑर्डर में अच्छा हुआ है. इसलिए निवेश की संभावनाएं बन रही हैं. उद्योग के एजेंडे को यहां अच्छी तरह से उठाया जा रहा है. बिहार सरकार की टेक्सटाइल और लेदर पॉलिसी देश की बेहतर पॉलिसी में एक है. इस पॉलिसी का फायदा उठाकर हम इसका हिस्सा बनेंगे.

पायलट प्रोजेक्ट के रूप में निवेश टीटी लिमिटेड के मैनेजिंग डायरेक्टर संजय कुमार जैन ने बताया कि मैं यहां एक पायलट प्रोजेक्ट के रूप में निवेश करने जा रहा हूं. बिहार में ही माल बनायेंगे. बिहार की सबसे बड़ी ताकत यहां के कुशल श्रमिक हैं. सबसे बड़ी बात यह है कि यहां इसेंटिव समय पर दिया जाता है. यह बड़ी बात है. कानून व्यवस्था भी सुधरी है.

देश भर में सबसे ज्यादा कुशल मजदूर बिहार के हैं. मैं चाहूंगा कि यहां का मजदूर यहीं काम करे.जल्दी ही निवेश कर सकते हैं काउंसिल ऑफ लेदर एक्सपोर्ट इंडिया के चेयरमैन संजय लेखा ने हम यहां जल्दी ही निवेश कर सकते हैं. यहां की स्किल लेबर जबरदस्त है. चमड़ा उद्योग स्थापित करने में यहां हर तरह की अनुकूलता है.

बिहार की औद्योगिक शक्ल बदलने जा रही है. निवेश

करने का सबसे बड़ा फायदा बिहार में निवेश करने से सबसे बड़ा फायदा यहां से जुड़ा बाजार है. 54 करोड़ से अधिक आबादी बिहार के आसपास के राज्यों और देश और नेपाल तक है. पॉलिसी के लोकार्पण के बाद स्थानीय निवेशकों के लिए एक तकनीकी सत्र भी रखा गया था.

0 comments

Comments


bottom of page