ei1WQ9V34771.jpg

विदेशी सैलानियों को गोवा से ज्यादा आकर्षित किया बिहार नें,मुख्यमंत्री को लगा बधाईयों का तांता


मुजफ्फरपुर केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय की ताजा रिपोर्ट से बिहार सरकार की चारों तरफ वाहवाही हो रही है विपक्ष को छोड़कर सभी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के पर्यटन नीति की तारीफ कर रहे है।रिपोर्ट के अनुसार विदेशी पर्यटकों को भाने वाले राज्यों में बिहार देश के शीर्ष 10 राज्यों में शामिल हो गया है। सबसे अधिक विदेशी पर्यटक महाराष्ट्र आ रहे हैं।


कुल विदेशी पर्यटकों में महाराष्ट्र आने वालों की संख्या 17.6 फीसदी है। इसके बाद तामिलनाडु हैं। यहां 17.1 फीसदी विदेशी पर्यटक आ रहे हैं। तीसरे पायदान पर उत्तरप्रदेश है। यूपी में 12.4 फीसदी विदेशी पर्यटक आ रहे हैं। बिहार में विदेशी पर्यटकों के आने का अनुपात 4.3 फीसदी है। शीर्ष 10 राज्यों में बिहार नौवें पायदान पर है। गोवा में आने वाले विदेशी पर्यटकों की संख्या मात्र 4.2 फीसदी है और यह 10वें पायदान पर है।विदेशी पर्यटकों का अनुपात देश के इन 10 राज्यों में 87.6 फीसदी है। बाकी 12.4 फीसदी विदेशी पर्यटक देश के बाकी राज्यों में जाते हैं। हालांकि कोरोना काल के पहले विदेशी पर्यटकों के भारत घूमने की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही थी। 2019 में रिकॉर्ड तीन करोड़ से अधिक विदेशी पर्यटक भारत आए थे।



साल 2020 में घटकर यह संख्या मात्र 71 लाख रह गई। अब चूंकि कोरोना का प्रभाव धीरे-धीरे समाप्त हो रहा है, ऐसे में अनुमान है कि एक बार फिर से विदेशी पर्यटक भारत आना शुरू करेंगे।भारत आने वाले विदेशी पर्यटकों में सबसे अधिक संयुक्त अरब अमीरात के लोग हैं। यहां के 34 फीसदी लोगों ने देश का भ्रमण किया। इसके बाद अमेरिका, सऊदी अरब, कतर, सिंगापुर, ओमान, ब्रिटेन, थाईलैंड, कनाडा व कुवैत के लोगों ने देश का भ्रमण किया। बिहार आने वाले विदेशी पर्यटकों के लिए सबसे मुफीद जगह बोधगया, राजगीर व वैशाली है।


वहीं देसी पर्यटकों को सबसे अधिक तामिलनाडु भा रहा है। पर्यटकों में 23 फीसदी लोगों ने तामिलनाडु की सैर की। इसके बाद यूपी में 14.1 फीसदी, कर्नाटक में 12.7 फीसदी, आंध्रप्रदेश में 11.6 फीसदी, तेलांगना में 6.6 फीसदी, पश्चिम बंगाल में 4.7 फीसदी, मध्यप्रदेश में 3.9 फीसदी, गुजरात में 3.2 फीसदी तो दसवें पायदान पर पंजाब है जहां 2.7 फीसदी देसी पर्यटक आए। कोरोना का असर देसी पर्यटकों पर भी हुआ। 2019 में दो अरब 32 करोड़ से अधिक देसी पर्यटकों ने देश के विभिन्न राज्यों की सैर की थी, जबकि 2020 में यह आंकड़ा घटकर मात्र 61 करोड़ रह गया।

0 comments